खुलासा: माफिया मुख्तार अंसारी की रोपड़ जेल में 10 IPS अधिकारी करते थे देखभाल

संकट में पंजाब सरकार, एक साथ इतने आईपीएस अधिकारियों पर कार्रवाई कैसे करें

 | 
सूबे में
तीमारदारी में लगे थे अधिकारी, साथ रहती थी पत्नी। जेल मंत्री हरजोत बैंस ने साफ कर दिया है कि इस मामले में कई बड़े चेहरे बेनकाब होंगे। मुख्तार अंसारी पर मोहाली के बिल्डर से 10 करोड़ की रंगदारी मांगने का आरोप था। उसे पंजाब पुलिस प्रोडक्शन वारंट पर मोहाली लेकर आई थी।

चंडीगढ़- 24 जनवरी 2019 को कोर्ट में पेश कर उत्तर प्रदेश के माफिया मुख्तार अंसारी को रोपड़ जेल में भेज दिया गया। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर पिछले साल अप्रैल में उसे पंजाब से उत्तर प्रदेश पुलिस ले गई। पंजाब विधानसभा के बजट सत्र के दौरान जेल मंत्री बैंस ने सदन में गैंगस्टर अंसारी को वीवीआईपी ट्रीटमेंट देने का मुद्दा उठाया था, जिसे लेकर सदन में कांग्रेस के सदस्यों ने काफी हंगामा भी किया था। सीएम ने जेल मंत्री की रिपोर्ट पर एक और कमेटी का गठन कर दिया है। लेकिन अब सरकार के सामने यह संकट है कि एक साथ इतने आईपीएस अधिकारियों पर कार्रवाई कैसे करें।

सूबे में

सरकार बदलने के बाद अब जेल मंत्री की रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है। रोपड़ जेल में 10 आईपीएस अधिकारी करते थे। इनकी देखरेख में ही अंसारी यहां सजा काट रहा था। जेल में पत्नी से मिलवाना और वीआईपी इंतजाम करवाना इन्हीं अधिकारियों का काम था। जेल मंत्री ने अपनी रिपोर्ट सीएम भगवंत मान के पास भेजी है, जिसमें इन सभी बातों का जिक्र है।तीन आईपीएस अधिकारियों की कमेटी अब अपनी रिपोर्ट देगी। इसके बाद सरकार यह तय करेगी कि इस मामले में क्या कार्रवाई करें। 

सूबे में

 बैंस ने सदन में खुलासा किया था कि अंसारी को फर्जी एफआईआर दर्ज करके 2 साल, तीन महीने तक पंजाब की जेल में रखा गया। पूर्व जेल मंत्री सुखजिंदर रंधावा ने इस आरोप पर बैंस को सदन में चुनौती दी थी कि अंसारी की पत्नी जेल में रहती थी, मंत्री इसे साबित करके दिखाएं। तब मंत्री बैंस ने जांच के बाद सच बाहर आने का दावा किया था। उसे प्रोडक्शन वारंट पर लेने के लिए यूपी सरकार ने 26 बार कोशिश की लेकिन उसे सफलता नहीं मिली। इस तरह पंजाब की कांग्रेस सरकार ने अंसारी को यूपी पुलिस और सरकार से बचाए रखा।


 

सूबे में

मुख्तार अंसारी को जेल में बेहतरीन सुविधाएं देने के मामले में पूर्व की कैप्टन सरकार पर भी आरोप लगते रहे हैं। मुख्यमंत्री को सौंपी रिपोर्ट में कहा गया है कि मुख्तार अंसारी केवल नाम के लिए ही जेल में बंद था। वह रोपड़ जेल में बने अफसर क्वार्टर में पूरी सुख-सुविधाओं के साथ रहता रहा। वहां उनकी पत्नी भी अंसारी के साथ रहती थी। जेल मंत्री हरजोत बैंस ने साफ कर दिया है कि इस मामले में कई बड़े चेहरे बेनकाब होंगे। उसे पंजाब पुलिस प्रोडक्शन वारंट पर मोहाली लेकर आई थी। मुख्तार अंसारी पर मोहाली के बिल्डर से 10 करोड़ की रंगदारी मांगने का आरोप था। 


 

Latest News

Featured

Around The Web