कहानी एक ऐसे IAS अफ़सर की जिनके 10वीं में अंग्रेजी में 35 व गणित में 36 मार्क्स आये, लोगों ने कहा था "कुछ नही हो सकता"

वहीं IAS अविनाश शरण के इस ट्वीट पर भरूच के कलेक्टर तुषार सुमेरा ने थैंक्यू सर(thanku sir) लिखकर रिप्लाई किया
 | 
IAS
2012 में यूपीएससी(UPSC) एग्जाम क्लियर कर आईएएस अधिकारी बने थे। भरूच में उत्कर्ष पहल अभियान के तहत किये गए कार्यों को लेकर उनकी तारीफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी की थी।

चंडीगढ़: जब भी हमारे घर या आस पड़ोस में बच्चों का दसवीं क्लास का परिणाम आता है तो हम उसके भविष्य को लेकर टिप्पणियां करना शुरू कर देते हैं। अगर बच्चा अच्छे नम्बरों से पास होता है तो उसके नाम और फ़ोटो के पोस्टर लगाए जाते हैं, रिश्तेदारों-दोस्तों में ख़ूब वाहवाही होती है। उसके डॉक्टर या इंजीनियर बनने के सपनों को गली मोहल्लों में चर्चे करते हैं।

वहीं अगर कोई कम नम्बर लाता है तो उसे तानों का सामना करना पड़ता है। हम उसे मानसिक रूप से कमज़ोर कर देते हैं। उसे उसकी निकम्मेपन की दुहाई दी जाती है। उसे कहा जाता है कि उसका कुछ नही हो सकता, उसकी दूसरे बच्चों के साथ तुलना की जाती है। लेकिन वही बच्चा बाद में भारत की सबसे बड़ी प्रशासनिक सेवा में सेलेक्ट होता है। सभी दांतों तले अंगुली दबा लेंगे। 

कुछ ऐसा ही एक मामला भारतीय प्रशासनिक सेवा अधिकारी(Indian Administrative Service) का सामने आया है जिनकी कहानी छत्तीसगढ़(chhattisgarh) कैडर के IAS अधिकारी अवनीश शरण ने ट्विटर(Twitter) पर कहानी शेयर की है। जिसमें अवनीश शरण(Awanish Sharan) ने उनकी दसवीं की मार्कशीट शेयर करते हुए कहा कि भरूच(Bharuch) के कलेक्टर तुषार सुमेरा(Tushar Sumera) ने दसवीं में सिर्फ पासिंग मार्क्स लिए थे। जिसके बाद न सिर्फ गांव में बल्कि उस स्कूल में भी यही कहा गया था कि "यह कुछ नहीं कर सकता।"

उन अधिकारी का नाम है गुजरात कैडर में भरूच के कलेक्टर तुषार सुमेरा। जिन्होंने दसवीं में अंग्रेजी में 35 व गणित में सिर्फ 36 नम्बर लिये थे। इसके बाद उनकी कहानी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। IAS अवनीश ने आगे कहा कि IAS अधिकारी तुषार भरूच का जब रिजल्ट आया था तो न सिर्फ उनके गांव बल्कि स्कूल में भी यही कहा गया था कि उनका कुछ नही हो सकता। लेकिन तुषार ने अपनी मेहनत व अटल निश्चय से ये साबित कर दिखाया है कि आदमी अपनी मेहनत और लगन के साथ कुछ भी हासिल कर सकता है।

वहीं IAS अविनाश शरण के इस ट्वीट पर भरूच के कलेक्टर तुषार सुमेरा ने थैंक्यू सर(thanku sir) लिखकर रिप्लाई किया। सोशल मीडिया(Social Media) पर यह पोस्ट वायरल हो गई है। एक यूजर ने लिखा कि डिगी नही टैलेंट मैटर(Degree Doesn't Matter Only Talent Matters) करता है। अन्य ने लिखा लगन हो तो सब कुछ संभव है।

कौन हैं तुषार सुमेरा

तुषार सुमेरा वर्तमान में गुजरात के भरूच जिले के कलेक्टर हैं। 2012 में यूपीएससी(UPSC) एग्जाम क्लियर कर आईएएस अधिकारी बने थे। भरूच में उत्कर्ष पहल अभियान के तहत किये गए कार्यों को लेकर उनकी तारीफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी की थी।

Latest News

Featured

Around The Web