राजस्थान में 9 साल के दलित बच्चे की मौत होने पर हुआ तनाव, जालोर में इंटरनेट बंद, सियासत गरमाई

जिले में 24 घंटे के लिए इंटरनेट सेवा बंद कर दी है
 | 
ss
जहां आस्था के नाम पर गाय का मूत्र तक खुशी खुशी पी लिया जाता,वहां एक दलित बच्चे को पानी पीने के लिए मार दिया जाता है. जालौर की इस घटना पर जातिवादी मीडिया इसलिए खामोश है क्योंकि यहां अपराधी की जाति आड़े आ जाती है. अपराधी मुस्लिम होता तो आतंकवादी घोषित कर दिया होता."

जयपुर - राजस्थान के जालोर(Jalore District) में एक प्राइवेट स्कूल में 9 साल के दलित बच्चे की मौत के बाद विवाद बढ़ता जा रहा है. देशभर में दलित संगठनों ने मृतक बच्चे के इंसाफ के लिए मुहिम छेड़ दी है. जिसके बाद सियासत गरमा गई है. दलित चिंतकों ने प्रदेश की कांग्रेस सरकार व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत(Rajasthan CM Ashok Gehlot) पर हमला शुरू किया है. इलाके में तनाव को देखते हुए जालोर जिले में 24 घंटे के लिए इंटरनेट सेवा बंद कर दी है और भारी पुलिसबल की तैनाती की गई है.


तमाम दलित चिंतकों व विपक्षी दलों ने सरकार पर निशाना साधा है. ट्विटर पर #अशोकगहलोतइस्तीफादो व #इन्द्रकुमारकोन्याय_दो पहले नंबर पर ट्रेंड कर रहा है. आजाद समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चंद्रशेखर आजाद ने अशोक गहलोत के ट्वीट का जवाब देते हुए कहा," ₹राजस्थान के पूरे दलित समाज को बधाई हो, अशोक गहलोत जी ने हमारे 9 साल के भाई की जान की कीमत 5 लाख रुपये लगाई है. मुख्यमंत्री जी चाहते है कि 5 लाख रुपये लो और अपने मुँह पर ताला लगा लो। जब भविष्य में किसी जितेंद्र या इन्द्र की हत्या हो तब रोना और चिल्लाना. न्याय में भी दोहरा मापदंड."

इससे पहले चंद्रशेखर आजाद(Chandra Shekhar Aazad) ने ट्वीट कर कहा, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी पहले मेरा छोटा भाई जितेंद्र मेघवाल(Jitender Meghwal) और अब 9 साल का मेरा छोटा भाई इन्द्र कुमार. मुख्यमंत्री जी और कितनी हत्याएं? मुख्यमंत्री जी मुझे अब आपसे ज्यादा उम्मीद नही है, आप अपनी नींद ना खराब करे. हमें न्याय की लड़ाई लड़नी आती है. मैं जल्द अपने परिवार से मिलने जाऊंगा."

पत्रकार व दलित चिंतक भंवर मेघवंशी(Bhanwar Meghwanshi) ने कहा,"शिक्षा के तथाकथित मंदिर ही जातिगत भेदभाव और अत्याचार के अड्डे बन गये हैं.कथित गुरुजन हत्यारे ! जालोर जिले के सुराणा में 20 जुलाई को तीसरी कक्षा के छात्र इंद्र मेघवाल द्वारा पानी का मटका छू लेने पर अध्यापक छैल सिंह द्वारा इतनी पिटाई की गई कि वह गंभीर रूप से घायल हो गया."

ट्राइबल आर्मी(Tribal Army) के संस्थापक हंसराज मीणा(Hansraj Meena) ने एक अखबार की कटिंग शेयर करते हुए कहा,"जहां आस्था के नाम पर गाय का मूत्र तक खुशी खुशी पी लिया जाता,वहां एक दलित बच्चे को पानी पीने के लिए मार दिया जाता है.
जालौर की इस घटना पर जातिवादी मीडिया इसलिए खामोश है क्योंकि यहां अपराधी की जाति आड़े आ जाती है. अपराधी मुस्लिम होता तो आतंकवादी घोषित कर दिया होता."


मुकनायक(Mooknayak) नाम से यूट्यूब चैनल चलाने वाली पत्रकार व दलित चिंतक मीना कोतवाल(Meena Kotwal) ने कहा,"इस घटना ने हमारी आंखों की नींद छीन ली है लेकिन सो कॉल्ड लिबरल प्रोग्रेसिव लोग एक ट्वीट तक नहीं कर पा रहे! देख लो इन सबकी सच्चाई, 8 साल का दलित बच्चा मरा है इसलिए इनकी कलम खामोश है, हिंदू-मुस्लिम मामला रहता तब देखते इनकी कलम की वीरता! काश इस बच्चे की जाति दलित नहीं होती! काश..."


 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने किया है 5 लाख रुपये मुआवजे का एलान

बच्चे की मौत के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी खेद व्यक्त किया है. उन्होंने कहा," जालौर के सायला थाना क्षेत्र में एक निजी स्कूल में शिक्षक द्वारा मारपीट के कारण छात्र की मृत्यु दुखद है. आरोपी शिक्षक के विरुद्ध हत्या व SC/ST एक्ट की धाराओं में प्रकरण पंजीबद्ध कर गिरफ्तारी की जा चुकी है.


मामले के त्वरित अनुसंधान एवं दोषी को जल्द सजा हेतु प्रकरण को केस ऑफिसर स्कीम में लिया गया है. पीड़ित परिवार को जल्द से जल्द न्याय दिलवाना सुनिश्चित किया जाएगा. मृतक के परिजनों को 5 लाख रुपये सहायता राशि मुख्यमंत्री सहायता कोष से दी जाएगी.

Latest News

Featured

Around The Web