BCCI increases pensions: बीसीसीआई की पूर्व क्रिकेटरों और अंपायरों को बड़ी सौगात, 900 लोगों की पेंशन राशि में की भारी बढ़ोतरी

भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने पूर्व क्रिकटरों और अंपायरों की पेंशन राशि में की भारी बढ़ोतरी।
 | 
BCCI increases pensions
बीसीसीआई ने पूर्व क्रिकेटरों और अंपायरों के लिए उठाया बड़ा कदम। 900 लोगों के मासिक पेंशन राशि में किया इजाफा। सौरव गांगुली और जय शाह ने जताई खुशी।

भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) की तरफ से सोमवार को पूर्व क्रिकेटरों और मैच अधिकारियों को बड़ी सौगात दी गई। बीसीसीआई सचिव जय शाह ने एक बड़ा ऐलान करते हुए पूर्व भारतीय क्रिकेटर्स (पुरुष और महिला) और अंपायर्स की पेंशन राशि में बड़ी बढ़ोतरी की। 

बीसीसीआई के इस फैसले से करीब 900 क्रिकेटरों (पुरुष और महिला) के अलावा पूर्व अधिकारियों को भी लाभ मिलेगा। बीसीसीआई सचिव ने कहा है कि इसका फायदा जल्द ही लोगों को मिलने लगेगा। उन्होंने ट्वीट कर कहा, "मुझे पूर्व क्रिकेटर्स और मैच अधिकारियों की मासिक पेंशन को बढ़ाने की घोषणा करते हुए बेहद खुशी हो रही है। इससे करीब 900 लोगों को फायदा होगा। जिन लोगों को पेंशन मिल रही है, उनमें से करीब 75 प्रतिशत कर्मचारी 100 प्रतिशत पेंशन वृद्धि का लाभ ले सकेंगे।"

      पुरानी पेंशन राशि (प्रति माह)     नई पेंशन राशि (प्रति माह)
1     ₹ 15,000      ₹ 30,000
2     ₹ 22,500      ₹ 45,000
3     ₹ 30,000      ₹ 52,500
4     ₹ 37,500      ₹ 60,000
5     ₹ 50,000      ₹ 70,000

बीसीसीआई की तरफ से जारी विज्ञप्ति के मुताबिक, "प्रथम श्रेणी के खिलाड़ियों में जिन्हे पहले 15,000 रुपये मिलते थे, उन्हें अब 30,000 रुपये मिलेंगे, जबकि 37,500 रुपये पाने वाले पूर्व टेस्ट खिलाड़ियों को अब 60,000 रुपये और 50,000 रुपये पेंशन वालों को 70,000 रुपये मिलेंगे। अंतरराष्ट्रीय महिला खिलाड़ी, जिन्हें अब तक 30,000 रुपये मिलते थे उन्हें अब से 52,500 रुपये मिलेंगे। इसके अलावा 2003 से पहले संन्यास लेने और 22,500 रुपये पाने वाले प्रथम श्रेणी क्रिकेटरों को पेंशन के तौर पर अब 45,000 रुपये मिलेंगे। यह बदलाव एक जून 2022 से लागू हो जाएगा।"

बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने अपने आधिकारिक बयान में कहा, "यह बेहद जरूरी है कि हमारे पूर्व क्रिकेटरों की आर्थिक स्थिति का ध्यान रखा जाए। खिलाड़ी जीवन रेखा बने रहते हैं और एक बोर्ड के रूप में यह हमारा कर्तव्य है कि एक बार उनके खेलने के दिन समाप्त हो जाएं, तो हमें उनका ध्यान रखना चाहिए।"

उन्होंने आगे कहा, "हमारे क्रिकेटरों का कल्याण चाहे वह पूर्व हो या वर्तमान, सर्वोच्च प्राथमिकता है और पेंशन राशि बढ़ाना उस दिशा में एक कदम है। बीसीसीआई वर्षों से अंपायरों के योगदान को महत्व देता है और यह उनके लिए आभार व्यक्त करने का एक तरीका है।
 

Latest News

Featured

Around The Web