Excise Policy: शराबियों के लिए ख़ुशख़बरी, सस्ती हुई शराब व बियर

नई एक्साइज पॉलिसी 1 जुलाई से लागू होगी
 | 
NEW EXCISE POLICY
इसके बाद पंजाब में हरियाणा(Haryana) से सस्ती शराब मिलेगी। जबकि चंडीगढ़(Chandigarh) से कम दाम में बीयर व शराब चंडीगढ़ के बराबर रेट पर उपलब्ध होगी।

चंडीगढ़: पंजाब में भगवंत मान(Bhagwant Maan) की सरकार ने नई एक्साइज पॉलिसी(Excise Policy) में शराब(Liquor) व बियर(Beer) के दामों में भारी कटौती करने का फ़ैसला किया है। हाल हो में बनी पंजाब की आम आदमी पार्टी(AAP) की सरकार की कैबिनेट ने एक्साइज पॉलिसी 2022-23 को।मंजूरी दे दी है। इसके बाद पंजाब में हरियाणा(Haryana) से सस्ती शराब मिलेगी। जबकि चंडीगढ़(Chandigarh) से कम दाम में बीयर व शराब चंडीगढ़ के बराबर रेट पर उपलब्ध होगी। नई एक्साइज पॉलिसी 1 जुलाई से लागू होगी। इसके साथ ही नई पॉलिसी में पंजाब सरकार ने कांग्रेस सरकार(Congress Government) के लाइसेंस सिस्टम(License System) को खत्म करने का फ़ैसला किया है। अब सरकार शराब के ठेकों के टेंडर(Tender) निकालेगी जिससे छोटे ठेकेदारों को नुकसान होने वाला है।

बताया जा रहा है कि भगवंत मान सरकार के इस फ़ैसले से पंजाब में शराब 35 फ़ीसदी से 60 फ़ीसदी तक सस्ती हो जाएगी। नई एक्साइज पॉलिसी लागू होने के बाद 1 जुलाई से शराब व बियर के रेट कम हो जाएंगे। एक्साइज अफसरों के मुताबिक हरियाणा के मुकाबले 10 फ़ीसदी से 15 फ़ीसदी तक रेत गिर जाएंगे। पंजाब में बीयर के रेट अभी 180 से 200 रुपये प्रति बोतल हैं। जोकि नई पॉलिसी के बाद 120 से 130 रुपये हो जाएंगे। जबकि पंजाब में बीयर का रेट 120 से 150 रुपये है। इसी तरह भारत मे निर्मित विदेशी शराब(IMFL-Indian Made Foreign Liquor) के रेट पंजाब में अभी 700 रुपये हैं। 1 जुलाई से यह गिरकर 400 रुपये तक हो जाएगा। चंडीगढ़ में इसका रेट 510 रुपये है।

मान सरकार ने पंजाब में शराब के ग्रुप को छोटा कर दिया है। पहले शराब के ग्रुप 750 था जो अब घटकर 177 हो गए हैं। एक ग्रुप अब 30 करोड़ का होगा जोकि पहले 4 करोड़ का था। इनका टेंडर ऑक्शन(Auction) होगा। पहले ड्रा के जरिये लाइसेंस दिए जाते थे। नई पॉलिसी में डिस्टलरीज(Liquor Distillery) लिकर डिस्ट्रीब्यूटर्स(Liquor Distributor) और ठेकों को एक दूसरे से अलग कर दिया है। पहले यह खुद ही शराब बेच रहे थे। अब सरकारी ने डिस्टलरी खोलने पर लगी पाबंदी को हटा दिया है। सरकार ने पिछले साल 6158 करोड़ के मुकाबले इस साल 9647 करोड़ रुपये की कमाई का लक्ष्य रखा है।

इस नई पॉलिसी से सरकार दावा कर रही है कि इससे पंजाब में शराब तस्करी पर रोक लगेगी। अभी पंजाब में हरियाणा व चंडीगढ़ से शराब की तस्करी हो रही है। तस्करी के रुकने से पंजाब सरकार की कमाई में भी बढ़ोतरी होगी। सरकार का दावा है कि नई पॉलिसी से शराब निर्माता, थोक निर्माता व ठेकों के बीच दूरी बनेगी। जिससे शराब तस्करी का गठजोड़ टूटेगा। वहीं तस्करी रोकने के लिए एक्साइज विभाग को पंजाब पुलिस(Punjab Police) की 2 बटालियन(Battalion) भी दी जायेगी। इससे एक्साइज ड्यूटी(Excise Duty) की चोरी रोकने पर कड़ी नजर रखी जा सकेगी।

Latest News

Featured

Around The Web