ममता बनर्जी बोलीं- धूमधाम से मनाएंगे दुर्गापूजा, केंद्र सरकार ना दें पैसा

दुर्गापूजा समितियों को राज्य सरकार देगी 60 हजार रुपये की अनुदान राशि 

 | 
 ममता ने इस अवसर पर भाजपा पर परोक्ष तौर पर निशाना साधते हुए कहा- कुछ लोग कहते हैं कि बंगाल में दुर्गापूजा व सरस्वती पूजा नहीं होने दी जाती। दुष्प्रचार पर ध्यान न दें।
30 सितंबर से 10 जाएगा। अक्टूबर तक दुर्गापूजा और 24 एवं 25 अक्टूबर को काली पूजा की सरकारी छुट्टी रहेगी। आठ अक्टूबर को रेड रोड में पूजा कार्निवल का आयोजन किया जाएगा। दुर्गापूजा के आयोजन में खर्च होने वाली बिजली के बिल में भी 60 प्रतिशत तक की कटौती की जाएगी, जो पिछले साल 50 प्रतिशत थी।

कोलकाता - बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने  ने कहा कि सरकार की तरफ से दुर्गा प्रतिमा विसर्जन का दिन पांच से लेकर आठ अक्तूबर तय किया गया है सोमवार कोविभिन्न योजनाओं के लिए फंड भी कम कर दिया गया है।  दुर्गापूजा समितियों के साथ बैठक की और कई महत्वपूर्ण घोषणाएं कीं। ममता ने इस अवसर पर भाजपा पर परोक्ष तौर पर निशाना साधते हुए कहा- कुछ लोग कहते हैं कि बंगाल में दुर्गापूजा व सरस्वती पूजा नहीं होने दी जाती। दुष्प्रचार पर ध्यान न दें।

 ममता ने इस अवसर पर भाजपा पर परोक्ष तौर पर निशाना साधते हुए कहा- कुछ लोग कहते हैं कि बंगाल में दुर्गापूजा व सरस्वती पूजा नहीं होने दी जाती। दुष्प्रचार पर ध्यान न दें।

उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा, "केंद्र सरकार पैसे नहीं दे रही। अच्छे तरीके से दुर्गापूजा का आयोजन किया जा सके।  इसके बावजूद हम अपनी क्षमता के मुताबिक दुर्गापूजा समितियों की आर्थिक मदद करने की कोशिश कर रहे हैं।  इस बार 30 सितंबर से 10 अक्टूबर तक दुर्गापूजा और 24 एवं 25 अक्टूबर को काली पूजा की सरकारी छुट्टी रहेगी। आठ अक्टूबर को रेड रोड में पूजा कार्निवल का आयोजन किया जाएगा। 

ममता ने कहा कि यूनेस्को को धन्यवाद देने के लिए कोलकाता में एक सितंबर को महाजुलूस निकाला जाएगा।यह दोपहर दो बजे जोड़ासांको ठाकुरबाड़ी से शुरू होगा और धर्मतल्ला में एक कार्यक्रम के आयोजन के साथ संपन्न होगा। इसमें यूनेस्को के प्रतिनिधि भी भाग लेंगे। सरकार की तरफ से उन्हें दुर्गा की मूर्ति भेंट की जाएगी।

 ममता ने इस अवसर पर भाजपा पर परोक्ष तौर पर निशाना साधते हुए कहा- कुछ लोग कहते हैं कि बंगाल में दुर्गापूजा व सरस्वती पूजा नहीं होने दी जाती। दुष्प्रचार पर ध्यान न दें।


दुर्गापूजा के आयोजन में खर्च होने वाली बिजली के बिल में भी 60 प्रतिशत तक की कटौती की जाएगी, जो पिछले साल 50 प्रतिशत थी। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दुर्गापूजा समितियों को राज्य सरकार की तरफ से दी जाने वाली अनुदान राशि 50 हजार से बढ़ाकर 60 हजार रुपये कर दी है। इसके साथ ही  दुर्गापूजा समितियों को मिलने वाले विज्ञापनों पर टैक्स ममता सरकार पहले ही माफ कर चुकी हैं। ममता ने कहा कि यूनेस्को को धन्यवाद देने के लिए कोलकाता में एक सितंबर को महाजुलूस निकाला जाएगा।

Latest News

Featured

Around The Web