राहुल गांधी ने राजस्थान सरकार की निशुल्क दवा योजना की तारीफ़ करते हुए कहा 'जो कहा, सो किया'

केंद्र सरकार की ओर से जारी की गई जून रैंकिंग में राजस्थान को पहला स्थान मिला है
 | 
rahul gandhi
इस योजना के सफल कार्यान्वयन हेतु राजस्थान चिकित्सा सेवा निगम लिमिटेड को पब्लिक लिमिटेड कंपनी (Public Limited Company) के रूप में समाविष्ट/निगमित (Incorporated) किया गया. वर्ष 2011 से अभी तक इस योजना से तकरीबन 67 करोड़ रोगी लाभान्वित हुए हैं, साथ ही इस योजना में 712 दवाओं को शामिल किया गया हैं जो स्वयं में एक रिकॉर्ड संख्या है.

जयपुर - सोमवार, 11 जुलाई को राजस्थान(Rajasthan) की गहलोत सरकार ने प्रदेश में चल रही निशुल्क दवा योजना(Free Medicine Scheme) में 824 और दवाओं को शामिल किया गया है जिसके बाद राजस्थान देश का पहला राज्य बन गया है जहां 1795 तरफ की दवाइयां और सर्जिकल समान(Medicine and Surgical Instrument) प्रदेश की जनता को बिना किसी पैसे के मिल सकेंगे. इसकी तारीफ़ में आज कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक(Facebook) से गहलोत सरकार की तारीफ़ में कहा, "सो किया ,सो किया." 

RAGA

fb


 

राहुल गांधी ने लिखा,"जो कहा, सो किया. राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने जनता से किया अपना एक और वादा निभाया है. प्रदेश में चल रही निशुल्क दवा योजना में 824 और दवाइओं को शामिल किया गया है। राजस्थान देश का पहला ऐसा राज्य बना जहां लगभग 1795 दवाइयां बिल्कुल मुफ़्त मिल रही हैं.

इनमें से कई महंगी जीवनरक्षक दवाइयां भी मुफ़्त मिलेंगी, जिससे लाखों लोगों की ज़िंदगी बचेगी. कांग्रेस सरकार, राजस्थान की जनता को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं देने के लिए प्रतिबद्ध है. हमारा लक्ष्य जनता के जीवन को बेहतर बनाना है. सभी अस्पतालों में मुफ़्त में अच्छा इलाज, जांच, दवाइयां उपलब्ध करा कर अमीर और ग़रीब के बीच की गहरी खाई को कम करना हमारी प्राथमिकता है. कांग्रेस पार्टी ऐसा हिंदुस्तान चाहती है जहां सब बराबर हों, सबको सामान अधिकार, अच्छा जीवन, अच्छी सुविधाएं मिलें ताकि हमारा देश तरक्की कर सके. आइए, हम सब मिल कर भारत जोड़ें.

क्या है राजस्थान की मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना

2 अक्तूबर, 2011 को राजस्थान के तत्कालीन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा इस योजना की शुरुआत की थी.
इस योजना के मुख्यतः दो घटक हैं:

नि: शुल्क दवाइयाँ (Free Medicines)- सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों में आने वाले रोगियों को सामान्य तौर पर उपयोग की जाने वाली आवश्यक दवाइयों को नि:शुल्क उपलब्ध कराना.

नि: शुल्क परीक्षण (Free Tests)- सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों में आने वाले रोगियों का नि: शुल्क परीक्षण सुनिश्चित करना.

इस योजना के सफल कार्यान्वयन हेतु राजस्थान चिकित्सा सेवा निगम लिमिटेड (Rajasthan Medical Services Corporation Limited-RMSCL) को पब्लिक लिमिटेड कंपनी (Public Limited Company) के रूप में समाविष्ट/निगमित (Incorporated) किया गया.
वर्ष 2011 से अभी तक इस योजना से तकरीबन 67 करोड़ रोगी लाभान्वित हुए हैं, साथ ही इस योजना में 712 दवाओं को शामिल किया गया हैं जो स्वयं में एक रिकॉर्ड संख्या है.

1795 दवाओं को जोड़ा

जानकारी के अनुसार राजस्थान सरकार(Rajasthan Government) की ओर से फ्री में दी जाने वाली दवाओं में आंख, एंटीबायोटिक(Antibiotics), इंजेक्शन(Injection), पेनकिलर(Painkillers), स्किन मैडिसन(Skin Medicine), विटामिन इंजेक्शन(Vitamin Injection), नेजल स्प्रे(Nasal spray), अस्थमा(asthama), कफ सिरप(Cough syrup) जैसी दवाओं शामिल की गई हैं. बता दें कि फ्री में दवाई डिस्ट्रीब्यूशन के लिए राजस्थान मेडिकल सर्विसेज लिमिटेड(RMSCL) पिछले 4 महीने से तैयारी कर रहा है. आरएमएससीएल के अधिकारियों के मुताबिक दवाइयों की लिस्ट बना ली गई है इसी साल अगस्त में दवाइयों की सप्लाई शुरू कर दी जाएगी. इसमें  1057 करोड़ रुपये का खर्च आएगा. वहीं सरकार की बाद में इस योजना के लिए बजट बढ़ाने की भी मंशा है.

निशुल्क दवा वितरण में अव्वल है राजस्थान

बता दें कि निशुल्क दवा वितरण सप्लाई के मामले में RMSCL देश मे पहले स्थान पर है. केंद्र सरकार की ओर से जारी की गई जून रैंकिंग में राजस्थान को पहला स्थान मिला है. इसके बाद दूसरे स्थान पर तेलंगाना व तीसरे स्थान पर आंधप्रदेश का नाम है.

Latest News

Featured

Around The Web